Subscribe Us

क्या से क्या होगया हमारे देश मैं । फिर से दोबारा भारतीये संस्कृति पूरे विशव मैं अपने व्यव्हार मैं लाया जाने लगा है। जो दवा कभी US अपने राज्य मैं बेचने के लिए भारत पे पावंदी लगता था आज वही उस दवा की मांग कर रहा है। एकतरफ पूरा विशव इस महामारी से सहमा हुआ है तो टुसरी ओर पकृति फिर से अपने असली रूप मैं दिखाई दे रही है। चीन के बाद पॉपुलेशन के आधार पे इंडिया दूसरे नम्बर पे आता है । आप सभी को पता ही होगा की कोरोना का जन्म चीन के एक सिटी से हुआ है और अभी ये पूरे विशव मैं फैल चुका है । इस वक़्त बताया जा रहा है की चीन मैं लॉकडौन को 76 दिनों के बाद खत्म कर दिया गया है और कोरोना से मरने वालों की गिनती बस 3500 के आसपास बताई जा रही है जो की कोरोना से संकर्मीन्त लोगो की संख्या 50 लाख बताईं जा रही है। हालाकी 2 करोड़ सिम चीन मैं डीएक्टिवेट किये गए है और 2 करोड़ फ़ोन भी कही छिपाए गए है तू ये बाते किस तरफ ईशारा कर रही है?
चीन को वर्ल्ड बैंक ने 2करोड़ डॉलर का खामियाजा भरने को काहा हैं क्योंकि कोरोना चीन के लैब से आया है और बहुत सारे विसेसग्यो का मानना है की ये वायरस चीन दुवारा विशव युद्ध के लिए तयार किया जा रहा था जो की असफल रहा।

Post a Comment

0 Comments